Friday, June 14, 2024
HomeBlogWEB SERISEKAALKOOT WEB SERISE IN HINDI (कालकूट)विजय वर्मा का शानदार अभिनय , गजब...

KAALKOOT WEB SERISE IN HINDI (कालकूट)विजय वर्मा का शानदार अभिनय , गजब का सस्पेंस

JOIN

सुमित सक्सेना और अरुणाभ कुमार द्वारा बनाई गई KAALKOOT WEB SERISE शीर्षक हिंदू पौराणिक कथाओं से लिया गया है। कालकूट को समुद्र मंथन के दौरान निकला विष कहा जाता है   में  एक लंबे  अर्से  के KAALKOOT WEB SERISE बाद दर्शको  को एक पुलिस  प्रक्रिया  (PROCEDURE ) PRESENT करती  है जो उत्तर प्रदेश के एक काल्पनिक शहर में बिगड़ती व्यवस्था और सामाजिक विसमरूपता से संघर्ष को  प्रदर्शित  करती  है  EK मनोरंजक अपराध KAALKOOT WEB SERISE  नाटक न  होते हुए भी तो अत्यधिक प्रगतिशील होने की कोशिश करता है  और  यथार्थवाद के नाम पर जानबूझ कर मूर्खता पूर्ण  तस्वीर पेश करने का प्रयास करता है। आकर्षक और व्यावहारि KAALKOOT WEB SERISE क है ,साथ में  यह गहरी पैठ वाली पितृसत्ता और लैंगिक पूर्वाग्रह को उजागर करती है  एक एसिड हमले के ए KAALKOOT WEB SERISE क मामले को सुलझाने के कार्य पर भी काम करती है। जब एक स्कूटर पर एक अजनबी युवा पारुल चतुर्वेदी (श्वेता त्रिपाठी शर्मा) पर एसिड फेंकता है, तो मामला सिरसी पुलिस स्टेशन में आता है। संयोग से, स्टाफ लैंगिक संवेदनशीलता में प्रशिक्षण ले रहा है और नए भर्ती रविशंकर त्रिपाठी (विजय वर्मा) को रिपोर्ट करने में देर हो गई है। ( ‘कालकूट’  वेब सीरी ज़ ) KAALKOOT WEB SERISE  जो जिओ  सिनेमा (JIO CINEMA )  पे 27 JULY SE FREE ME  स्ट्रीम   हो रही ह  की कहानी का सामाजिक आधार  कुछ कुछ हालिया रिलीज फिल्म ‘बवाल’ जैसा ही है। नायक स्वच्छंद  बेफिकर है। पिता सामाजिक रूप से प्रतिष्ठित है। मां भारतीय और कोमलहृदया है। और, घर में आने वाली बहू एक जैसी समस्या से पीड़ित है। दोनों कहानियां उत्तर प्रदेश की पृष्ठभूमि की है और दोनों विवाह को लेकर युवाओं पर बनाए जाने वाले अतिरिक्त दबाव के चलते उनकी निरपेक्ष भाव से निकली हां के बाद बदलने वाली जिंदगी के दर्द को समझने की बेहतरीन कोशिशें हो सकती थीं। लेकिन, दोनों ने कहानी के इस तार को बिना झंकृत किए ही छोड़ दिया। एक युवा है जिसकी होने वाली या हो चुकी पत्नी एक ऐसी बीमारी से पीड़ित है, जो किसी भी विवाहित जोड़े का विवाह विच्छेद कराने का बड़ा कारण हो सकती है। इसके बावजूद युवक के न सिर्फ रिश्ता स्वीकारने बल्कि उसे पूरी शिद्दत से निभाने की दोनों अद्भुत कहानियां बन सकती थीं।

KAALKOOT WEB SERISE REVIEW

STRAMING ON – JIO CINEMA 

ACTOR – VIJAY VERMA , SEEMA VISHWASH, SUJANA MUKHERJEE GOPAL DUTT , SHWEATA TRIPATHI SHARMA

RELEASING -ON 27 JULY 2023

KAALKOOT WEB SERISE कहानी —– KAALKOOT WEB SERISE  KI कहानी की शुरुआत UP  एक  शहर से होती है   जिसमे  यूपी 65 नंबर की यामाहा बाइक पर घूमते दरोगा  विजय वर्मा  जो मात्र  तीन महीने पहले ही भर्ती हुए दरोगा पद  को ज्वाइन किये  है , और विजय  दरोगा के  के किरदार को जीने की कोशिश करते हैं, तो उनके प्रयास ईमानदार और सफल  भी  लगते भी हैं। KAALKOOT WEB SERISE ( ‘कालकूट’  वेब सीरीज़ ) की कहानी शुरू ही इस बात से होती है कि दरोगा विजय वर्मा  जो  मात्र  तीन महीने की ही नौकरी में उकता गया है और घुटन के बजह  से  इस्तीफा देना चाहता है। आईएएस, पीसीएस, नीट और सीडीएस जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करते करते दिमाग उसका कंप्यूटर से भी तेज चलने लगा है लेकिन पुलिस सिस्टम  की अनियमिताएं के कारन   विजय वर्मा   में आत्मविश्वाश  नहीं दिखता। और वो  थाना प्रभारी(C .O. ) से गालियां  और फटकार खाता रहता है। सिपाही और सहयोगी  उसका मजाक बनाते हैं और वह दिन रात सरकारी पिस्तौल कमर में खोंसे रहता है। उसको पहला केश  मिलता है एक एसिड अटैक  को सुलझाने का जिसका सम्बन्ध  खनन माफिया ( ‘कालकूट’  वेब सीरीज़ KAALKOOT WEB SERISE)से है साथ  बालिकाओं की जन्मते ही हत्या, ईमेल हैकिंग और सोशल मीडिया पर महिलाओं की अश्लील फोटो अपलोड करने की  कथाएं भी  समानांतर  रूप से चलती है उत्तर प्रदेश में एक एसिड हमले के मामले को सुलझाने के दौरान ईमानदार पुलिस भर्ती रवि शंकर त्रिपाठी को एक जटिल सामाजिक टेपेस्ट्री का सामना करना पड़ता है।

डायरेक्टर सुमित सक्ससेना  हमारे सामने आने वाली सामाजिक विकृतियों को संबोधित करने के लिए बहुत सारी मंथन और मंथन प्रक्रियाओं में शामिल होते हैं। जैसे-जैसे जांच आगे बढ़ती है, लेखक हमारे आस-पास के कई अंधेरे स्थानों की जांच करते हैं। रिवेंज पोर्न से लेकर होमोफोबिया और बड़े पैमाने पर कन्या भ्रूण हत्या से लेकर अल्पसंख्यक समुदाय के प्रति पूर्वाग्रह तक, चिंतन करने के लिए बहुत कुछ है। क्या  पारुल सचमुच एक पीड़िता है?   एक छोटे शहर की एक KAALKOOT WEB SERISE युवा महिला की इच्छाओं और महत्वाकांक्षाओं की पड़ताल करती है और अगर उसके कुछ फैसले गलत हो जाते हैं तो समाज उसे किस तरह लेबल में बांध देता है सटीक रूप से दर्शाती  में एक  पिता है जो अ KAALKOOT WEB SERISE पनी बेटी पर विश्वास करने के लिए तैयार नहीं है और  केंद्रीय जांच के लिए खतरे की घंटी के कथा को आगे बढ़ाते हैं और दिलचस्प कहानी में कई परतें जोड़ते हैं।

नकारात्मक किरदारों को आत्मविश्वास के साथ निभाने  और नेगेटि रोले में परांगत  होने के  बाद, विजय उतनी ही शालीनता के साथ एक ईमानदार पुलिसकर्मी की वर्दी पहनते हैं। एक संघर्षशील युवक के रूप में, जिसका व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन जटिल रूप से आपस में जुड़ा हुआ है, विजय वह टूर डी फोर्स है जो आठ-भाग की श्रृंखला को संचालित करता है। प्रेरक लेखन के समर्थन से, वह रवि की आंतरिक उथल-पुथल को सामने लाता है जिसे धीरे-धीरे लगने लगता है कि जिस पितृसत्ता के खिलाफ वह खड़ा है, उसे आगे बढ़ाने के लिए वह भी जिम्मेदार है।

 30-30 मिनट के कोई आठ एपिसोड है। आखिरी  8  वा थोड़ा लंबा करीब 50 मिनट का है। कहानी लूडो  की तरह कभी इस खाने तो कभी उस खाने की तरफ ध्यान भटकाती है। लोगों के बोलने का अंदाज  इसे उत्तर प्रदेश की पृष्ठभूमि की कहानी साबित करने की  पूर्ण कोशिश करता है

READ KOHRA WEB SERISE REVIEW ALSO

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular